Sidebar Menu

कासगंज के अंदेशे

उन्माद फैलाने के लिए प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक गोदी मीडिया और प्रोफेशनली अनप्रोफेशनल सोशल मीडिया के जरिये झूठ और भड़कावे की जी तोड़ कोशिशों के बावजूद अंततः 26 जनवरी को कासगंज में घटित घटना का असली सच उजागर होकर आ ही गया है ।

उन्माद फैलाने के लिए प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक गोदी मीडिया और प्रोफेशनली अनप्रोफेशनल सोशल मीडिया के जरिये झूठ और भड़कावे की जी तोड़ कोशिशों के बावजूद अंततः 26 जनवरी को कासगंज में घटित घटना का असली सच उजागर होकर आ ही गया है । अनेकों वीडियो रिकॉर्डिंग्स के लाइव प्रमाण यहां तक कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों के बयानों के बाद जो स्थिति उभर कर आई है उसके मुताबिक़ - भगवाधारी बाइक गिरोह की कथित झण्डा यात्रा - कासगंज के एडीएम के मुताबिक़ जिसकी न सूचना दी गयी थी न अनुमति ली गयी थी -जब शहीद अब्दुल हमीद चौक पहुंची तब वहां गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा था, तिरंगे गुब्बारों से पूरा इलाका सजाया जा चुका था और आई जी पुलिस ध्रुवकान्त ठाकुर के मुताबिक़ "वहां आयोजक झण्डा फहराने ही वाले थे ।"


भगवा झण्डा बाइक गिरोह, ने न केवल उसी जगह से गुजरने की जिद की बल्कि वहां बनी रंगोली पर भी धमाल मचाकर उसे मिटाया । उकसावे में कोई कसर न रह जाये इसके लिए उन्होंने शहीद अब्दुल हमीद चौक के झंडारोहण कार्यक्रम में भाग ले रहे एक बुजुर्ग मुस्लिम नागरिक के साथ मारपीट की और अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ ऐसे नारे लगाये, जिन्हें वीडियोज में सुना जा सकता है, किन्तु लिखा नहीं जा सकता ।


एक बुजुर्ग के पैर में गोली लगी है । अपनी कार में अलीगढ जाते एक व्यक्ति बुरी तरह घायल होकर अस्पताल में हैं ।
गोलियां चलीं । किसने चलाईं ? पुलिस कहती है कि यह जांच बाद पता चलेगा । मगर पुलिस को सौंपे गए एक वीडियो फुटेज में अभाविप के कमल सोनकर के अपनी पिस्तौल से 3 फायर करते हुये दिखने और उसी की एक गोली चन्दन गुप्ता के लगने का दावा किया गया है। जांच के बाद स्थिति ज्यादा साफ़ होगी । बशर्ते जांच निष्पक्ष हो । स्थानीय सांसद राजवीर सिंह का अपनी ही पार्टी की सरकार के कासगंज के अधिकारियों से जांच कराने से इनकार और पुलिस द्वारा हिरासत में लिए गए दो लोगों को छुड़ा लाने का सार्वजनिक एलान विवेचना के प्रति जायज संदेह और आशंकायें उत्पन्न करता है ।

इस बीच जो अफवाहें फैलाई गयीं, जो झूठ बरपाया गया उसे हुआ खामियाजा इन सबसे अलहदा है। 
बहरहाल इन सब जानकारियों के अलावा इस घटना को समझने के लिए इससे जुड़े दो पहलुओं को संज्ञान में लेना जरूरी है । एक तो यह कि पिछली 15 अगस्त को भी शहीद अब्दुल हमीद चौक पर इस भगवा गिरोह ने इसी तरह के हालात पैदा किये थे । उससे सबक लेकर इस बार अल्पसंख्यक बस्ती के गणतंत्र दिवस समारोह में कुर्सियां नहीं लगाई गयी थीं, ताकि यदि हुड़दंगिये आयें तो उन्हें गुजर जाने का रास्ता दिया जा सके । दूसरा यह कि यहीं बिलराम गेट के पास चामुण्डा मन्दिर है, जहां से मुस्लिम आबादी की तरफ जाने वाले तिसरौली मार्ग की सड़क को बन्द करके उसे मन्दिर अपने कब्जे में लेना चाहता है । स्थानीय सांसद मन्दिर के साथ हैं जबकि स्थानीय आबादी सड़क के साथ है ।

 

इन सबसे अलग किन्तु इस सबसे निकलते हुये कासगंज के अंदेशे कहीं अधिक गंभीर और चिंताजनक और भविष्य में अनिष्ट के संकेत देने वाले हैं । 
इनमे सबसे खतरनाक है जानबूझकर साजिश रचकर इस तरह की घटनाओं को कराया जाना और फिर योजना बनाकर हर तरह के मीडिया का उपयोग करके पूरे देश भर में उन्माद फैलाना और दंगों के लिए उकसाना । सामान्यतः किसी दुश्मन देश में ऐसा करवाने के लिए करोड़ों रूपये खर्च किये जाते हैं । मगर भारत वह देश है जहां के "स्वयंसेवक" खुद इसे अंजाम देने में पूरी शिद्दत से जुटे हैं । इसमें किस तरह उन्होंने अपनी पूरी बटालियन झोंकी हुयी है यह मधु किश्वर की सरासर आपराधिक ट्वीट और कासगंज कवरेज में जहर उगल रहे चैनलों से एक बार फिर सामने आ गया है । करणी सेना और गौरक्षक गिरोहों के नाम से सत्तारूढ़ राजनीति उन्हें प्रोत्साहन दे रही है। 


दूसरा है चन्दन गुप्ता जैसे संभावनावान युवाओं को चारे और शिकार दोनों तरह से इस्तेमाल करना । बेरोजगारी और अंधकारमय भविष्य से बदहवास ऐसे युवाओं की फ़ौज जिन्होंने पैदा की है वे ही उन्हें आत्मघाती बारूद बनाने पर आमादा है । चन्दन गुप्ताओं की शहादत उन्हें इस्तेमाल करने वालों को कितना विचलित करती है , यह इस युवा की श्रद्दांजलि सभा में उनके खिलखिलाते चेहरों से सामने आ गया है । 


मुश्किल यह है कि देरसबेर अपराधी तो इतिहास के हाशिये में एक कालिख बन कर रह जायेंगे मगर अवाम की देह पर लगे खून के धब्बों को साफ़ करने में पीढियां गुजर जायेंगी।


About Author

Badal Saroj

लेखक मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के सदस्य हैं.

Leave a Comment