Sidebar Menu

अभिमत

Home / अभिमत

मध्यप्रदेश ; उपचुनाव के नतीजों में दर्ज सन्देश

  • Mar 01, 2018

गंभीर राजनीति गंभीर विश्लेषण मांगती है। हार में जीत की सम्भावनायें - जीत में हार की आशंकायें देखने का शऊर सिखाती है। मध्यप्रदेश विधानसभा की इन दोनों सीटों के उपचुनावों में जीत का जश्न मनाने और उसके लिए श्रेय बटोरने की जल्दबाजी , वोटों की कमी के लिए इधर उधर के बहाने तलाशने की बजाय असली कारण देखने चाहिए और नया सारथी और रथ ढूंढने की बजाय रास्ते और मंजिल के बारे में सोचना चाहिए।

Read More

कासगंज के अंदेशे

  • Jan 30, 2018

उन्माद फैलाने के लिए प्रिंट-इलेक्ट्रॉनिक गोदी मीडिया और प्रोफेशनली अनप्रोफेशनल सोशल मीडिया के जरिये झूठ और भड़कावे की जी तोड़ कोशिशों के बावजूद अंततः 26 जनवरी को कासगंज में घटित घटना का असली सच उजागर होकर आ ही गया है ।

Read More

भारत के एक हिंदू पाकिस्तान बनने की शुरुआत है अफऱाज़ुल हत्याकांड

  • Dec 13, 2017

हजारों की तादाद में ऐसे नवयुवक तैयार हैं जो अब धर्म के नाम पर जान लेने और देने के लिए तत्पर हैं। इन ब्रेनवॉश किए हुए लोगों के जरिये दंगे और सामूहिक बलात्कार करवाए जाते हैं।

Read More

भारत के लिए 'चतुर्भुज' का जाल

  • Dec 03, 2017

अमरीका, जापान, आस्ट्रेलिया और भारत के बीच चतुर्भुजीय गठजोड़ एक बार फिर हो रहा है। मनीला में हाल में हुए आसियान शिखर सम्मेलन के दौरान, इस सम्मेलन के हाशिए पर इन चारों देशों के अधिकारियों की एक बैठक आयोजित की गयी। आगे चलकर, सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अलग-अलग तीनों देशों के नेताओं से बातचीत की।

Read More

धन कुबेरों का स्वर्ग

  • Nov 26, 2017

प्रकाश करात    पैराडाइज पेपर्स के माध्यम से नये रहस्योद्घाटन हुए हैं। खोजी पत्रकारों के अंतर्राष्ट्रीय  कंसोर्शियम की पड़ताल पर आधारित ये रहस्योद्ïघाटन इस पर और ज्यादा रौशनी डालते हैं कि किस तरह, बहुराष्ट्रीय निगमों तथा अंतर्राष्ट्रीय  वित्तीय पूंजी के स्वार्थ पूरे करने के लिए कर स्वर्गों, हेरा-फेरी करने वाली कंपनियों और वित्तीय लेद-देन का एक बारीक ताना-बाना खड़ा कर दिया गया है।   पैराडाइज पेपर्स दो कंपनियों--बरमूडा की एप्पलबे तथा...

Read More

नोटबंदी: 4.5 लाख करोड़ रुपये के राष्ट्रीय नुकसान के लिए कौन जिम्मेदार है?

  • Nov 26, 2017

टी एम थामस आइजैक   पिछले साल 8 नवंबर के प्रधानमंत्री के संबोधन पर, जिसमें मध्य रात्रि से 1,000 रु0 और 500 रु0 के नोटों का चलन बंद कर देने का एलान किया गया था, मेरी पहली प्रतिक्रिया थी-''यह पागलपन है। बहुत से लोगों ने फोन कर के मझसे कहा था कि इस कदम की ऐसी निंदा करने से पहले मुझे सुबह तक इंतजार करना चाहिए था। अगली सुबह...

Read More